स्मृति मंधाना की जीवनी/Smriti Mandhana Biography in Hindi

स्मृति मंधाना(Smriti Mandhana) आज के समय भारत की सबसे चर्चित और उभरती हुई भारतीय महिला क्रिकेटर हैं। उन्होंने क्रिकेट के वनडे विश्वकप(Woman’s Worldcup 2017) में अपने प्रदर्शन से पुरे भारत के साथ-2 पूरी दुनिया का  ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया हैं। Social Media Networking Sites पर तो आज Smriti Mandhana को National Crush तक घोषित कर दिया गया हैं। आज हम जानेंगे स्मृति मंधाना के जीवन के बारे में। Smriti Mandhana Biography in Hindi.

Biography of Smriti Mandhana in Hindi

Smriti Mandhana का जीवन परिचय

Smriti Mandhana का जन्म 18 जुलाई 1996 को महाराष्ट्र के मुंबई में हुआ था। उनके पिता का नाम श्रीनिवास मंधाना और माँ का नाम स्मिता मंधाना हैं।  जब उनकी उम्र 2 साल थी तब उनका परिवार महाराष्ट्र के  सांगली में स्थानातरित हो गया। मंधाना ने अपनी स्कूल कि पढाई सांगली में ही की। उनका एक भाई भी हैं जिसका नाम हैं श्रवण। उनके पिता और भाई दोनों ही सांगली के लिए जिला स्तर पर क्रिकेट खेलते थे। उनका भाई महाराष्ट्र के लिये अंडर-16 टूर्नामेंट में खेलता था। इस कारण उनका मन भी क्रिकेट में लग गया। मात्र 9 वर्ष की आयु में ही उनका चयन महाराष्ट्र की अंडर-15 टीम में हो गया। और 11 साल की उम्र में उनका सिलेक्शन महाराष्ट्र की अंडर-19 टीम के लिये हो गया।

जहाँ एक तरफ भारत में लड़कियो को क्रिकेट खेलने से मना किया जाता हैं वही दूसरी तरह Mandhana के परिवार में हर कोई उसे क्रिकेट खेलने के लिये सपोर्ट करता था। उनके पिता केमिकल सप्लाई का काम करते थे, इसके साथ ही वो Mandhana के क्रिकेट पर भी पूरा ध्यान देते थे। उनकी माँ उनकी डाइट का, कपड़ो का और दूसरी चीज़ों का ध्यान रखती थी। वही उनके भाई उन्हें नेट पर प्रैक्टिस करवाते थे।

क्रिकेट शैली

Mandhana बाएं हाथ से बल्लेबाज़ी करती हैं। इसके साथ ही वो दायें हाथ से मध्यम तेज गति से गेंदबाजी भी करती हैं। वो भारत के लिए पारी की शुरुआत हैं। वो बड़े ही शांत स्वभाव से क्रिकेट खेलती हैं। और वो गेंदबाजी काफी कम ही करती हैं। वो एक पार्ट टाइम गेंदबाज हैं।

Also Read :-

Smriti Mandhana का क्रिकेट करियर

Mandhana पहली बार चर्चा में तब आयी जब उन्होंने अक्टूबर 2013 में महाराष्ट्र की ओर से खेलते हुए गुजरात के खिलाफ वनडे में दोहरा शतक लगाया था। ऐसा कारनामा करने वाली वो पहली भारतीय महिला क्रिकेटर थी। इस मैच में उन्होंने मात्र 150 गेंद में 224 रन बनाये। के मैच वेस्ट जोन अंडर-19 टूर्नामेंट के अंतर्गत खेला गया था।

फिर उन्होंने मात्र 17 साल की उम्र में 10 अप्रैल 2013 को बांग्लादेश के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय वनडे में पदार्पण किया था। साल 2016 में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय वनडे में अपना पहला शतक ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगाया था। ये उनके करियर का 16वां मैच था, इस मैच में उन्होंने 109 गेंदों में 102 रन बनाये थे। उनके इस प्रदर्शन के बावज़ूद भारत मैच हार गया, लेकिन उन्हें एक नयी पहचान मिल गयी। उन्होंने 5 अप्रैल 2013 को बांग्लादेश के खिलाफ ही टी20 में भी डेब्यू किया। उन्होंने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच 13 अगस्त 2014 को इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। उन्होंने इस मैच की पहली और दूसरी पारी में क्रमशः 22 और 51 रन बनाकर भारत को वो टेस्ट जीतने में मदद की।

Cricket का जूनून

Smriti Mandhana 2016 में बिग बैश लीग में ब्रिस्बेन हीट की तरफ से खेल चुकी हैं। उन्हें ICC Woman’s Team of the Year 2016 में भी जगह मिली। ये कारनामा करने वाली वो एकमात्र भारतीय महिला खिलाडी हैं। साल जनवरी 2017 में Mandhana चोटिल हो गयी थी। इस कारण वो विश्वकप 2017 के क्वालीफ़ायर और दक्षिण अफ्रीका में चतुष्कोणीय सीरीज में नहीं खेल पायी थी। उनका World cup 2017 में भीं खेलना मुश्किल था। क्योंकि जो इंजरी उन्हें हुई थी उसे ठीक होने में लगभग 8 से 9 महीने लगते हैं, लेकिन उनके Worldcup में खेलने के जुनून ने इस इंजरी को सिर्फ 5 माह में हरा दिया।

Mandhana ने Woman’s World cup 2017 के पहले ही मैच में इंग्लैंड के खिलाफ 90 रन बनाकर भारत को जीत दिलाई। और वेस्टइंडीज के खिलाफ 106 रन नाबाद बनाकर भारत को एक और जीत दिलाई। भारत को इस प्लेयर से भविष्य में काफी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद हैं।

प्रेरणादायक

भारत में क्रिकेट को एक धर्म माना जाता हैं। लेकिन यहाँ पुरुषों को महिलाओ के मुकाबले ज्यादा तवज्जो दी जाती हैं। इन सब के बीच भी Maharashtra  के एक छोटे शहर Sangali से निकलकर Smriti Mandhana आज Woman’s World cup 2017 में भारत का प्रतिधिनित्व कर रही हैं। Smriti Mandhana आज के समय में भारत की काफी लड़कियो के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बन चुकी हैं। आज हज़ारो लडकिया उनकी तरह की भारत के क्रिकेट खेलना चाहती हैं।अगर आपको ये पोस्ट Biography of Smriti Mandhana अच्छी लगी हो तो Comment में अपनी प्रतिक्रिया ज़रूर दे।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *